आजकल मराठी फिल्म जिन बातों को लेकर आगे आ रहा है वो शायद हमारे मेनस्ट्रीम सिनेमा मे देखने को कम मिल रहा है।

दो दिन पहले एक ऐसी हीं मराठी फिल्म ‘न्यूड’ का ट्रेलर यू-ट्यूब पर आया। रवि जाधव ने इस फिल्म को निर्देशित किया है। फिल्म न्यूड मॉडेल्स के ऊपर बनी है जिसमे कहानी एक ऐसी औरत के इर्दगिर्द घूमती है जिसने पैसों की तंगी के कारण कला के छात्रों के लिए न्यूड मोडेलिंग का काम चुना।

 

फिल्म के दृश्य बहुत अच्छे हैं। कई दृश्य गिनवा सकता हूँ जहां निर्देशक ने सच मे कला के साथ खेला है। 

 

वो दृश्य जहां कई औरतें तालाब मे कपड़े धूल रहीं हैं और एक औरत तलब मे छलांग लगाती है। अगला दृश्य जिसमे एक्टर झूले पर बैठ पानी मे पैर मार रही है। यह दृश्य क्लोजअप मे है और आपको खूब आकर्षित करता है। दृश्य ज़ूम आउट होता है और वाइड दिखता है। किसी के हंसने की आवाज आती है और वहाँ विजूअल खूबसूरती जबर्दस्त दिखती है।

ट्रेलर मे एक लड़की पूछती है कि तुम जीने(कमाने) के लिए क्या करती हो? तभी अगले दृश्य मे सब साफ होता है। चित्र कला स्कूल दिखता है और वहाँ कुछ बच्चे तस्वीर बनाते हुए। तस्वीर बनवाने वाली औरत न्यूड है।

फिल्म को IFFI Goa-2017 ने फेस्टिवल मे शामिल करने से माना कर दिया है। जबकि इस फिल्म को ज्यूरी ने खुद चुना था। इसके विरोध मे भारतीय पैनोरमा ज्यूरी के प्रमुख, सुजॉय घोष ने इस्तीफा दे दिया है। इस फिल्म के साथ सेक्सी दुर्गा को भी नहीं चुना गया है।

फिल्म मे नसीर साहब भी हैं और उनका एक डायलॉग है,

 

बेटा! कपड़ा जिस्म पे पहनाया जाता है, रूह पे नहीं। और मैं अपने काम में रूह खोजने की कोशिश करता हूं। 

 

यह डायलॉग कुछ इशारा कर रहा जो की शायद IFFI Goa-2017 के समझ के परे है। ऐसी फिल्मों को जब फेस्टिवल भी शामिल नहीं करेंगे तो इनके प्रदर्शन के लिए विंडो मिलेगा कहाँ ? ट्रेलर तो अच्छा है। फिलहाल फिल्म को लेकर अटकलें तेज हैं।\

[youtube https://www.youtube.com/watch?v=bFJMq-Y3a00&w=640&h=360]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here