आतंकी देश पाकिस्तान पर अपने शब्दों से वार करते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कड़ी शब्दों में चेतावनी दी है की अगर वे अकेले अपने देश में उपजे हुए आतंकवाद का सामना नहीं कर सकते तो भारत उनकी मदद के लिए हमेशा तैयार है.

जयपुर में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान को हिदायत देते हुए कहा है की कश्मीर कोई मुद्दा नहीं बल्कि भारत का एक अभिन्न अंग है. दोनों मुल्कों के लिए मुद्दा एक ही है और वो है आतंकवाद. लेकिन अगर पाकिस्तान इससे निपटने में सक्षम नहीं है तो भारत उसकी मदद के लिए हमेशा तैयार है. उन्होंने ये भी कहा की उनकी सरकार ने आतंकवाद पर पूरी तरह से पूर्णविराम तो अभी तक लगा नहीं पायी है पर बीते चार सालों में आतंकवाद की गतिविधियों में काफी गिरवाट हुई है.

राजनाथ सिंह. फोटो साभार: इन्टरनेट

कश्मीर के बारे में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के कथित बयान पर सिंह ने कहा,

‘मैं स्पष्ट करना चाहता हूं और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को भी यह संदेश देना चाहता हूं, मुद्दा कश्मीर नहीं है। कश्मीर तो भारत का अभिन्न अंग था, है और रहेगा । मुद्दा है तो आतंकवाद और अगर आतंकवाद पर पाकिस्तान बात करना चाहता है तो बात हो सकती है।’

राजनाथ सिंह ने कहा,

“सरकार ने जम्मू-कश्मीर को राजनीतिक प्रक्रिया में लाया है। जहां तक ​​आतंकवाद का सवाल है, वहां कोई दूसरा विचार नहीं है कि यह पाकिस्तान प्रायोजित है”.  

गृह मंत्री के अनुसार आतंकवाद सिर्फ कश्मीर तक ही सिमित है और उनके कार्यकाल में आतंकवादी गतिविधियों में भी काफी गिरावट हुई है और इसका एक उदहारण पंचायत चुनाव भी है जो की शान्तिपूर्ण तरीके से संभव हो पाया. अभी के हालत में देश की सरहदें पूरी तरह से सुरक्षित है और देश आतंकवाद और नक्सल से मुकाबला करने के लिए पुरे तरीके से तैयार है और जल्द ही दोनों से छुटकारा पा लिया जाएगा.

पाकिस्तान के प्रधानमन्त्री इमरान खान. फोटो साभार: इन्टरनेट

सिंह ने कहा, “बीते चार साल में पहले की तुलना में नक्सलवाद में 50-60 प्रतिशत की कमी आई है। 90 जिलों का नक्सलवाद आठ नौ जिलों में सिमट कर रह गया है। तीन से पांच साल में यह नक्सलवाद समाप्त हो जाएगा।”

लगे हाथ उन्होंने भाजपा के लिए सर दर्द बनी हुई राफेल डील का मुद्दा भी क्लियर करने की कोशिश भी किया. राफेल डील पर कांग्रेस की जेपीसी गठित करने की मांग को खारिज करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, ‘अब जब कांग्रेस यह मामला सुप्रीम कोर्ट में ले गई है, तो उसी के जजमेंट का इंतजार करना चाहिए।’ राजनाथ ने कहा, ‘कांग्रेस ने देश की राजनीती  में विशवास का संकट पैदा किया है। कांग्रेस के लिए मंदिर और गाय चुनावी मुद्दा हो सकता है, लेकिन बीजेपी के लिए यह कोई चुनावी स्टंट नहीं है। यह हमारे सांस्कृतिक जीवन का अभिन्न अंग है।’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here